रक्षाबंधन

रक्षाबंधन एक ऐसा त्योहार है जिसका बहुत समैक महत्व है जो हिन्दू वैदिक पंचांग के अनुसार “श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि” को रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाता है, जिसमे बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर उसके सुखद भविष्य की कामना करती है और भाई भी अपनी बहन की जीवन पर्यन्त रक्षा करने का प्रण लेते हैं।
पौराणिक दृष्टि से देखा जाए तो रक्षा बंधन का संबंध सतयुग से है, जब इंद्र युद्ध में दानवो से पराजित होने लगे थे तो उनकी पत्नी इन्द्राणी ने एक रक्षा सूत्र इंद्र की कलाई पर बाँधा था जिससे इंद्र को विजय प्राप्त हुई थी तभी से रक्षा सूत्र बंधने की यह परम्परा चली आ रही है

इस बार रक्षाबंधन – इस बार रक्षाबंधन का त्यौहार 15 अगस्त बृहस्पतिवार को मनाया जायगा
रक्षाबंधन पर राखी बांधने के लिए ये हैं विशेष शुभ चौघड़िया मुहूर्त –

सुबह 6 बजे से 7:30 बजे तक (शुभ)

सुबह 10:48 बजे से दोपहर 12:26 तक (चर)

दोपहर 12:26 से 1:29 बजे तक (लाभ)

दोपहर 3 बजे से 3 :41 बजे तक (अमृत)

शाम 5:19 बजे से 6:57 बजे तक (शुभ)

शाम 6:57 बजे से रात 8:19 बजे तक (अमृत)

हालाँकि ये सभी मुहूर्त राखी बांधने के लिए शुभ हैं अपनी सुविधा के अनुसार इनका उपयोग कर सकते हैं… परन्तु बहन दवारा भाई को राखी बांधने के पीछे बहन की विशेष कामना भाई की जीवन रक्षा के लिए ही होती है इसलिए अमृत चौघड़िया मुहूर्त को राखी बांधने के लिए सबसे श्रेष्ठ समय माना गया है

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक समाधान लेना चाहते हैं और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते है ,हमारा कस्टमर केर नंबर है 01204121939 www.destinybrowser.com

Categories : Featured Forcasts Love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *