नंबर 786 और भगवान श्रीकृष्ण

दोस्तों आपने अक्सर ऑटो रिक्शा या गाड़ियों के नंबर प्लेट पर 786 लिखा देखा ही होगा , दरअसल इस्लाम में 786 का बहुत अधिक महत्व होता है। बहुत लोग इस नंबर के नोट अपने पास संभाल कर भी रखते हैं। अमिताभ बच्चन की फिल्म ‘दीवार’ और ‘कुली’ में 786 नंबर की काफी अहमियत दिखाई गई है।

इसके पीछे की वजह यह है कि हर मुस्लिम इस अंक को बिस्मिल्ला का रूप मानता है। अरबी या उर्दू में ‘बिस्मिल्ला अल रहमान अल रहीम’ को लिखेंगे तो उसका योग 786 आता है। इसीलिए इस अंक को इस्लाम धर्म में अलग ही महत्वता दी गयी है।

दोस्तो आप लोग जान कर हैरान होंगे की इसका संबंध सिर्फ़ इस्लाम धर्म से ही नही बल्कि भगवान श्रीकृष्ण यानी हिंदू संस्कृति से भी हैं। पुराणों में कथा मिलती है कि कृष्ण जी अपनी 7 छिद्रों वाली बांसुरी को तीन-तीन यानी 6 अंगुलियों से बजाया करते थे और वे देवकी के आठवें पुत्र थे। अत: इन तीनों अंकों को मिलाकर बना है 786…

राफेल पताई जो की एक इसके अलावा प्रसिद्ध शोधकर्ता है , ने अपनी किताब ‘द जीविस माइंड’ में लिखा है कि अगर 786 नंबर की आकृति पर गौर किया जाए तो यह बिल्कुल संस्कृत में लिखा हुआ ॐ दिखाई देगी। इसे परखने के लिए 786 को हिन्दी की गिनती में यानी ७८६ लिख कर देखिए और उस पर स्मरण करके देखिए

नोटः इस आलेख का उद्देश्य पौराणिक तथ्य को साझा करना है, किसी भी व्यक्ति, समुदाय, संप्रदाय या धर्म की भावनाओं को आहत करने का हमारा इरादा नहीं है।

Categories : Forcasts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *